कक्षा 10 हिंदी (गोधूलि भाग 2 काव्य खण्ड) पाठ - 4 स्वदेशी Subjective Question 2023, Swadeshi Subjective Question Answer 2023,स्वदेशी Subjective Question Answer 2023,स्वदेशी Subjective Question Answer,Class 10th Hindi Subjective Question Answer,स्वदेशी का सारांश, स्वदेशी ncert solutions,स्वदेशी सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर class 10,स्वदेशी प्रश्न उत्तर class 10 pdf,स्वदेशी Subjective question,स्वदेशी प्रश्न उत्तर,स्वदेशी ka question answer,स्वदेशी सब्जेक्टिव क्वेश्चन,कक्षा 10 वी हिंदी स्वदेशी सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर 2023,class 10th स्वदेशी ka Subjective question answer 2023,स्वदेशी ka Subjective question answer class 10 2023,कक्षा 10 स्वदेशी का सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर 2023,Swadeshi Subjective question answer 2023,Swadeshi prshn uttr 2023,Swadeshi  subjective question,Swadeshi ka subjective question answer 2023
Class 10th Hindi Subjective Question

कक्षा 10 हिंदी (गोधूलि भाग 2 काव्य खण्ड) पाठ – 4 स्वदेशी Subjective Question 2023 || Swadeshi Subjective Question Answer 2023

अगर आप कक्षा 10 के छात्र हैं और मैट्रिक परीक्षा 2023 की तैयारी कर रहे हैं तो यहां पर आपको कक्षा 10 हिंदी काव्य खंड का स्वदेशी का सब्जेक्टिव क्वेश्चन नीचे दिया गया है। जो कि आपके मैट्रिक परीक्षा 2023 के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसलिए शुरू से अंत तक जरूर पढ़ें। और आपको इस वेबसाइट पर स्वदेशी Objective Question भी पढने के लिए मिल जायेगा।

Join Telegram
Bihar Board All Subject Pdf Download Class Xth & 12th
Whats'App Group Click Here
Join Telegram Click Here
Bihar Board All Subject Pdf Download Class Xth
Whats’App Group Click Here
Join Telegram Click Here

स्वदेशी Subjective Question Answer 2023

1. कविता के शीर्षक की सार्थकता स्पष्ट कीजिए।

उत्तर ⇒ प्रस्तुत कविता का शीर्षक ‘स्वदेशी’ है। इस कविता में कवि ने भारतीयों द्वारा विदेशी संस्कृति, भाषा, रहन-सहन इत्यादि को अपनाने पर चिंता व्यक्त की है। कवि चाहता है कि भारतवासी विदेशी वस्तु, भाषा आदि को छोड़कर अपनी देसीयता को अपनाएं। इसलिए ही इस कविता का नाम . ‘स्वदेशी’ रखा गया है जो कि कविता के विषय-वस्तु के अनुकूल है। अतः कविता का यह शीर्षक ‘स्वदेशी’ सर्वथा सार्थक है।

2. कवि को भारत में भारतीयता क्यों नहीं दिखाई पड़ती ?

उत्तर ⇒ भारतीय लोगों ने अपनी सभ्यता, संस्कृति एवं भाषा को त्यागकर विदेशी संस्कृति को अपना लिया है। भारतीयों को अपनी भाषा से लज्जा होने लगी, वे अंग्रेजी भाषा, रहन-सहन, नीति और संस्कारों को अपनाते चले जा रहे हैं। भारत के लोग भारतीय होते हुए भी विदेशी सभ्यता में इतने रंग गए हैं कि अपने-आपको ही अंग्रेज समझने लगे हैं। इसलिए कवि को भारत में भारतीयता नहीं दिखाई पड़ती है ।

3. कवि समाज के किस वर्ग की आलोचना करता है और क्यों ?

उत्तर ⇒ कवि समाज के ऐसे वर्ग की आलोचना करता है जो विदेशी संस्कृति में पूरी तरह रंग चुके हैं। ऐसे लोग विदेशों से शिक्षित होकर भारत में अंग्रेजी चाल-चलन, भाषा, वेशभूषा और वस्तुओं को अपनाए हुए हैं। ऐसे विदेशपस्त वर्ग की कवि कठोर आलोचना करता है क्योंकि यह भारतीय होकर भी विदेशी सभ्यता को अपनाए हुए हैं और स्वयंअपने को अंग्रेज समझने लगे हैं।

4. कवि नगर, बाजार और अर्थव्यवस्था पर क्या टिप्पणी करता है ?

उत्तर ⇒ कवि कहता है कि अब नगरों में विदेशी वस्तुओं को खरीदने वाले लोग अधिक है। नगर के लोग अंग्रेजी रुचि के सामान खरीदकर घरों में ला रहे हैं। अंग्रेजी वस्तुओं की बिक्री इतनी ज्यादा होने के कारण ही बाजाद विदेशी वस्तओं से भरे पडे हैं। बाजारों में देसी सामान तो दिखाई ही नहीं पड़ता है। इस कारण से भारतीय अर्थव्यवस्था दिन-प्रतिदिन कमजोर होती जा रही है।

Swadeshi ka subjective question answer 2023

5. नेताओं के बारे में कवि की क्या राय है ?

उत्तर ⇒ नेताओं के बारे में कवि कहता है कि भारत में नेताओं से तो अपनी धोती तक नहीं संभाली जाती है, देश को क्या संभाल सकते हैं? कहने का अर्थ है कि भारतीय नेताओं में ऐसी योग्यता ही नहीं है कि वे देश में अच्छी व्यवस्था कायम कर सकें।

6. कवि ने ‘डफाली’ किसे कहा है और क्यों ?

उत्तर ⇒ कवि ने डफाली उन लोगों को कहा है जो अंग्रेजो के चाटुकार हैं। वे अंग्रेजों की झूठी प्रशंसा ही करते रहते हैं। अंग्रेजी चाटुकारों में ब्रह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र चारों वर्गों के लोग हैं। ऐसे लोगों को कवि ने डफाली इसलिए कहा क्योंकि . ऐसे लोग बाजा बजाने वाले लोगों की तरह ही अंग्रेजों की खुशामद और झूठी प्रशंसा करने में ही लगे रहते हैं।

7. व्याख्या करें।

(क) मनुज भारती देखि कोउ, सकत नहीं पहिचान।

उत्तर ⇒ सन्दर्भ: प्रस्तुत पंक्ति हमारी पाठ्य-पुस्तक गोधूलि भाग-2 में निर्धारित ‘स्वदेशी’ नामक कविता से अवतरित है। इसके रचयिता बदरीनारायण चौधरी ‘प्रेमघन’ हैं।

नोट : इस पाठ के सभी व्याख्याओं का सन्दर्भ यही रहेगा।

प्रसंग : प्रस्तुत पंक्ति में कवि ने अंग्रेजी संस्कृति में रंगे भारतीयों का चित्रण किया है।

व्याख्या : कवि कहता है कि भारत के बहुत से लोग अंग्रेजी संस्कृति में इतना डूब गए है कि उन्हें पहचानना ही मुश्किल हो गया है कि वे भारतीय हैं अथवा अंग्रेज। कहने का अर्थ है कि उनके अंदर भारतीयता का एहसास तो लेस-मात्र का रह गया है। पाश्चात्य संस्कृति को अपनाने वाले भारतीय रहन-सहन, खान-पान, आचार-व्यवहार, भाषा तथा संस्कृति सभी प्रकार से अंग्रेजों की भाँति ही हो गए हैं।

(ख) अंग्रेजी रुचि, गृह, सकल बस्तु देस विपरीत।

उत्तर ⇒ सन्दर्भः प्रश्न 7 के (क) में देखें।

प्रसंगः प्रस्तुत पंक्ति में कवि ने भारतीय लोगों द्वारा विदेशी वस्तुओं को अपनाने का चित्रण किया है।

व्याख्या : कवि कहता है कि वर्तमान समय में भारत में विदेशी वस्तुओं का व्यवहार बढ़ा है। अंग्रेजी सभ्यता और संस्कृति से यहाँ के लोग इतने प्रभावित हुए हैं कि उनकी रुचियाँ भी अंग्रेजों के समान हो गई हैं। उसी रूचि के अनुरूप ही भारतीय लोग उपभोग करने वाली सभी अंग्रेजी ढंग की वस्तुओं को खरीद रहे हैं। कवि चिंता व्यक्त करते हुए कहता है कि विदेशी वस्तुओं का उपयोग और खरीद देश के हित में बिल्कुल भी नहीं है। यह देश की अर्थव्यवस्था के विरूद्ध है।

स्वदेशी Subjective Question Answer 2023

(ग) जिनसों सम्हल सकत नहिं तनकी, धोती ढीली-ढाली।

उत्तर ⇒ सन्दर्भ: प्रश्न 7 के (क) में देखें।

प्रसंग : प्रस्तुत पंक्ति में कवि ने देश का नेतृत्व करने वाले नेता का चित्रण किया है।

व्याख्या : कवि कहता है कि इस देश में पहला कष्ट तो यही है कि यह विदेशी शासन के अधीन हैं। उस पर भी जो भारतीय नेता देश का नेतृत्व कर रहे हैं वह पूर्णरूप से अयोग्य हैं। उनमें तो स्वयं अपने-आपको संभालने की योग्यता नहीं तो वे देश को कैसे सभांल सकते हैं।

8. आपके मत से स्वदेशी की भावना किस दोहे में सबसे अधिक प्रभावशाली है? स्पष्ट करें।

उत्तर ⇒ देस नगर बानक बनो, सब अंग्रेजी चाल। हाटन मैं देखहु भरा, बसे अंगरेजी माल। मेरे मत से उपर्युक्त दोहे में ‘स्वदेशी’ की भावना सबसे अधिक प्रभावशाली दिखाई पड़ती है। क्योंकि इस दोहे में कवि ने भारतीय समाज और बाजारों में विदेशी सामान की अधिकता और देसी सामान की न्यूनता पर चिंता प्रकट की।

Class 10th Hindi Subjective Question 2023

Hindi Subjective Question
S.N गोधूलि भाग 2 ( गद्यखंड )
1. श्रम विभाजन और जाति प्रथा
2. विष के दाँत
3. भारत से हम क्या सीखें
4. नाखून क्यों बढ़ते हैं
5. नागरी लिपि
6. बहादुर
7. परंपरा का मूल्यांकन
8. जित-जित मैं निरखत हूँ
9. आवियों
10. मछली
11. नौबतखाने में इबादत
12. शिक्षा और संस्कृति
Hindi Subjective Question
S.N गोधूलि भाग 2 ( काव्यखंड )
1. राम बिनु बिरथे जगि जनमा
2. प्रेम-अयनि श्री राधिका
3. अति सूधो सनेह को मारग है
4. स्वदेशी
5. भारतमाता
6. जनतंत्र का जन्म
7. हिरोशिमा
8. एक वृक्ष की हत्या
9. हमारी नींद
10. अक्षर-ज्ञान
11. लौटकर आऊंगा फिर
12.  मेरे बिना तुम प्रभु
Bihar Board All Subject Pdf Download Class Xth
Whats’App Group Click Here
Join Telegram Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published.