वर्णिका भाग-2 पाठ -2 ढहते विश्वास SUBJECTIVE QUESTION, ढहते विश्वास सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2023, Dhate Vishwas Subjective Question Answer, Class 10th Hindi Varnika Bhag-2 Subjective Question Bihar Board Matric Exam 2023, BSEB Class 10th हिंदी वर्णिका भाग-2 ( ढहते विश्वास ) Subjective Question 2023, ढहते विश्वास का महत्वपूर्ण सब्जेक्टिव क्वेश्चन, class 10th Hindi Varnika bhag 2 ka Subjective, Class 10th Hindi model paper and question bank 2023, Pragatishil Classes, Class 10th Hindi Dhate Vishwas Subjective Question Answer, ढहते विश्वास सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर class 10, ढहते विश्वास सब्जेक्टिव क्वेश्चन, कक्षा 10 वी हिंदी ढहते विश्वास सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर 2023,class 10th ढहते विश्वास ka Subjective question answer 2023, ढहते विश्वास ka Subjective question answer class 10 2023, कक्षा 10 ढहते विश्वास का सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर, Dhate Vishwas Subjective question answer 2023
Class 10th Hindi Subjective Question

कक्षा 10 हिंदी (वर्णिका भाग 2 ) पाठ -2 ढहते विश्वास Subjective Question 2023 || Dhate Vishwas Subjective Question Answer 2023

कक्षा 10 हिंदी वर्णिका भाग 2 Subjective Question : ढहते विश्वास (Dhate Vishwas Objective Question Answer) For Board Exam 2022 :- दोस्तों यहां पर Bihar Board Class 10th  हिंदी वर्णिका भाग 2 पाठ -2 ढहते विश्वास का महत्वपूर्ण सब्जेक्टिव क्वेश्चन नीचे दिया गया है तथा दिए गए प्रश्नों को अच्छी तरह से एक बार शुरू से अंत तक अवश्य पढ़ें ।

Join Telegram
Bihar Board All Subject Pdf Download Class Xth & 12th
Whats'App Group Click Here
Join Telegram Click Here
Bihar Board All Subject Pdf Download Class Xth
Whats’App Group Click Here
Join Telegram Click Here

ढहते विश्वास Subjective Question Answer 2023

1. लक्ष्मी कौन थी? उसकी पारिवारिक परिस्थिति का चित्र प्रस्तुत कीजिए।

उत्तर ⇒ लक्ष्मी इस कहानी की नायिका है। उसका पति कलकत्ता में नौकरी करता है। आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण लक्ष्मी स्वयं तहसीलदार के यहाँ काम करती है। उसकी दो पुत्रियाँ और दो पुत्र हैं। एक टूटा हुआ घर और पूर्वजों की एक बीघा जमीन है जो बंजर है।

2. कहानी के आधार पर प्रमाणित करें कि उड़ीसा का जन-जीवन बाढ़ और सूखा से काफी प्रभावित रहा है।

उत्तर ⇒ प्रस्तुत कहानी में उड़ीसा के ग्रामीण इलाके की कथा है। जहाँ कभी अधिक बारिश और बाढ़ आती है तो कभी सूखा पड़ जाता है। इस गाँव के लोग वैसे तो सुखी हैं लेकिन बाढ़ और सूखा इनके जीवन में ग्रहण की तरह हैं। कहानी में चित्रित महानदी और देबी नदी के कारण इस राज्य में प्रलय आता है। जब वर्षा का मौसम आता है तो अक्सर तूफान गाँव के घरों को उजाड़ देता है। तूफान के बाद अत्यधिक बारिश से बाढ़ आती है तो जान-माल की हानि होती है। लोग इन प्राकृतिक आपदाओं का सामना करते हैं लेकिन उन्हें तबाही झेलनी ही पड़ती है।

3. कहानी में आये बाढ़ के दृश्यों का चित्रण अपने शब्दों में प्रस्तुत करें।

उत्तर ⇒ कहानी में बाढ़ का चित्रण दो बार हुआ है। पहला दृश्य भूतकाल का है जब लक्ष्मी विवाहित होकर ससुराल आई थी। उस वर्ष दलेई बाँध टूट गया था। बाढ़ में घर, जानवर और गाँव के लोग बह गए थे। सिर्फ वे लोग ही बचे थे जो टीले पर पहुँच गए थे। इस घटना का दर्द गाँव के लोग और लक्ष्मी भुला भी नहीं पाए थे कि पुनः बाढ़ आ गई। लोगों ने नदी के बहाव को रोकने के लिए पत्थर और मिट्टी की बोरियों से बाँध बनाया। रात रात भर निगरानी भी की। लेकिन पानी के तेज बहाव ने मिट्टी की बोरियों को बहा दिया। लोग बाढ़ से बचने के लिए टीले की ओर भागे, जो नहीं पहुँच पाए व स्कूल की छत पर पहुँच गए। कुछ लोग कमरों में घुस गए। बाढ़ घरों और फसलों को बहा ले गई। लक्ष्मी का पुत्र अच्यत, गुणनिधि आदि जो निगरानी कर रहे थे, वे सबसे पहले इसका शिकार हुए। पानी स्कूल की छत तक पहुँच गया। कमरे में घुसे लोग डूबकर मर गए। लक्ष्मी बरगद के पेड़ पर चढ़ गई तो बच गई। इस तरह इस भयंकर बाढ़ में सिर्फ वे लोग बचे जो ऊँची जगह पहुँच गए थे।

Class 10th Hindi Dhate Vishwas Subjective Question Answer 2023

4. कहानी के शीर्षक की सार्थकता पर विचार करें।

उत्तर ⇒ प्रस्तुत कहानी में बाढ़ की घटना का चित्रण है। इस घटना से लोगों के विश्वास टूट गए। कहानीकार ने दिखाया कि लोगों को किसी पर विश्वास नहीं रहा। देवी-देवताओं पर से विश्वास उठने लगा। इस बाढ़ की घटना से लोगों के मन का प्रभाव अविश्वास है। कहानीकार ने इस केन्द्रीय भाव के आधार पर कहानी का शीर्षक निर्धारित किया है। इस दृष्टि से कहानी का शीर्षक ‘ढहते विश्वास’ उपयुक्त और पूर्णतः सार्थक है।

5. लक्ष्मी के व्यक्तित्व पर विचार करें।
अथवा
लक्ष्मा का चरित्र-चित्रण करें।

उत्तर ⇒ लक्ष्मी ही कहानी के केंद्र में है अतः वह केन्द्रीय पात्र है। कथाकार ने उसे परिश्रमी, सहनशील, साहसी एवं कुशल महिला के रूप में चित्रित किया है। वह चार संतानों का लालन-पालन करती है। आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण दूसरों के यहाँ काम करके परिवार का पोषण करती है। इस तरह वह परिश्रमी महिला है। बाँध बनाने के काम में अपने बड़े बेटे को भेजती है। अंत समय देखकर अपने बच्चों को बचाने का असफल प्रयास भी करती है। इस तरह लक्ष्मी एक गुणवान और सद्चरित्र वाली महिला है।

कक्षा 10 वी हिंदी ढहते विश्वास सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर 2023

6. बिहार का जन-जीवन भी बाढ़ और सूखा से प्रभावित होता रहा है। इस संबंध में आप क्या सोचते हैं ? लिखें।

उत्तर ⇒ बिहार नम उष्टकटिबंधी जलवायु वाला राज्य है। यहाँ सर्दियों में खूब सर्दी और गर्मीयों में भयंकर गर्मी पड़ती है। सदियों में तापमान 10 डिग्री से कम तक पहुँच जाता है। गर्मियों में तापमान 45 डिग्री पहुँच जाता है। मानसून न आने पर सूखा पडता है। इसके साथ ही इस राज्य से होकर बहने वाली नदियाँ भी हानि पहुँचाती हैं। गंगा, कोसी, कमला, फाल्गु, कर्मनासा, महानंदा तथा गण्डा आदि नदियाँ बहती हैं। नदियाँ वैसे तो जीवन देती हैं लेकिन अधिकांश नदियाँ बिहार को तबाह कर देती है। हर वर्ष बिहार राज्य में बाढ़ से अनगिनत जान-माल की हानि होती है। इस तरह इस राज्य के लोग सूखा और बाढ़ की दो-दो मार झेलते हैं।

7. कहानी का सारांश प्रस्तुत करें।

उत्तर ⇒ लक्ष्मी वर्षा की निरन्तरता में भीषण बाढ़ आने की बात सोचकर दु:खी हो रही थी। उसके पति लक्ष्मण कलकत्ता की नौकरी में कुछ पैसे भेज देता था और वह स्वयं तहसीलदार का छिटपुट काम करके बच्चों के साथ अपना भरण-पोषण  कर रही थी। भूमि की छोटा टुकड़ा तो प्रकृति-प्रकोप से ही तबाह रहता है। कटक में लौटा गुणनिधि महानदी की इस बाँध की सुरक्षा के लिए गाँव के युवकों को स्वयंसेवी दल बनाकर बाँध की सुरक्षा में सब संलग्न थे । लक्ष्मी भी बडे लड़के को बाँध पर भेजकर दो लड़कियों और एक साल के लड़का के साथ घर पर है। लक्ष्मी भी पूर्व के आधार पर कुछ चिउड़ा बर्तन-कपड़ा संग्रह कर लिया । गाय, बकरियों के पगहा खोल दिया अच्युत तो बाँध पर ही जूझ रहा था। बाढ़ आ गई और शोर मच गया। गुणनिधि-काम में जुटा था। लोगों में जोश भर रहा था और लोगों को ऊँचे पर जाने का निर्देश भी दे रहा था। सब लोगों का विश्वास आशंका में बदल गया। लोग काँपते पैरों से टीले की ओर भागे। स्कूल में भर गये । देवी स्थान भी भर गया। लोग हतास थे अब तो केवल माँ चंडेश्वरी का ही भरोसा है। लक्ष्मी भी अच्यूत की आशा छोड़कर जैसे-तैसे बच्चों को लेकर भाग रही थी क्योंकि बाढ़ वृक्ष घर सबों को जल्दी-जल्दी लील रही थी। शिव मन्दिर के समीप पानी के बहाव इतना बढ़ गया कि लक्ष्मी बरगद की जटा में लटककर पेड़ पर चढ़ गई । वह बेहोश हो गई । कोई किसी की पुकार सुननेवाला नहीं। टीले पर लोग अपने को खोज रहे थे। स्कूल भी डूब चुका था। अतः लोग कमर भर पानी में किसी प्रकार खड़े थे। लक्ष्मी को होश आने पर उसका छोटा लडका लापता था। वह रो चिल्ला रहा थी, पर सुननेवाला कौन था ? लोगों का विश्वास देवी-देवताओं पर से भी उठ गया क्योंकि इनपर बार-बार विश्वास करके लोग, मात्र ठगे जाते रहे हैं। लक्ष्मी ने पुनः पीछे देखा पर उसकी दृष्टि शुन्य थी। फिर भी एक शिशु शव को उसने पेड़ की तने पर से उठा लिया और सीने से भींच लिया यद्यपि वह उसक पुत्र का शव नहीं था।


Class 10th Hindi Subjective Question 2023

S.N वर्णिका भाग 2 Subjective Question Answer
1. दही वाली मंगम्मा
2. ढहते विश्वास
3. माँ – कहानी
4. नगर कहानी
5. धरती कब तक घूमेगी
Bihar Board All Subject Pdf Download Class Xth
Whats’App Group Click Here
Join Telegram Click Here

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.