आविन्यों Subjective Question Answer 2023, आविन्यों Subjective Question Answer, Class 10th Hindi Subjective Question Answer, आविन्यों का सारांश, आविन्यों ncert solutions, आविन्यों प्रश्न उत्तर class 10, आविन्यों प्रश्न उत्तर class 10 pdf, आविन्यों Subjective question, सब्जेक्टिव क्वेश्चन आविन्यों, आविन्यों प्रश्न उत्तर, आविन्यों ka question answer, आविन्यों सब्जेक्टिव क्वेश्चन, आविन्यों SUBJECTIVE, कक्षा 10 वी हिंदी आविन्यों सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर 2023, class 10th आविन्यों ka Subjective question answer 2023, Matric exam 2023 ka Hindi subjective question answer, आविन्यों ka Subjective question answer class 10 2023, कक्षा 10 आविन्यों का सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर 2023, aavinyo Subjective question answer 2023, aavinyo prshn uttr 2023, aavinyo  subjective question, aavinyo ka subjective question answer 2023
Class 10th Hindi Subjective Question

पाठ-9 आविन्यों ( गोधूलि भाग-2 गध खंड ) Subjective Question 2023 || Aavinyo Subjective Question Answer 2023

दोस्तों यहां पर आपको कक्षा दसवीं हिंदी गोधूलि भाग 2 बिहार बोर्ड के लिए आविन्यों पाठ का सब्जेक्टिव प्रश्न दिया गया है। जो मैट्रिक परीक्षा 2023 के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है ।और यहाँ पर Aavinyo का Objective Question Answer दिया गया है। जिसे आप आसानी से पढ़ सकते है

आविन्यों Subjective Question Answer 2023

1. आविन्यों क्या है और वह कहाँ अवस्थित है ?

उत्तर ⇒ आविन्यों एक पुराना शहर है जो कभी पोप की राजधानी था। यह शहर यूरोप के फ्रांस देश में रोन नदी के किनारेअवस्थित है।

Join Telegram

2. हर बरस आविन्यों में कब और कैसा समारोह हुआ करता है ?

उत्तर ⇒ हर बरस आविन्यों में गर्मियों में रंग समारोह होता है, जहाँ देश-विदेश के साहित्यकार एकत्र होते हैं।

3. लेखक आविन्यों किस सिलसिले में गए थे ? वहाँ उन्होंने क्या देखा-सुना ?

उत्तर ⇒ प्रति वर्ष होने वाले रंग समारोह में पीटर ब्रुक का महाभारत प्रस्तुत होना था, जिसमें लेखक को निमंत्रण मिला। इस रंग समारोह में शामिल होने आविन्यों गया। उसने वहाँ देखा कि रोन नदी के किनारे बसा यह शहर अपने सौन्दर्य और ‘ऐतिहासिकता के लिए महत्त्वपूर्ण है। यह शहर कभी पोप की राजधानी था।

4. ला शत्रूज़ क्या है और वह कहाँ अवस्थित है ? आजकल उसका क्या उपयोग होता है ?

उत्तर ⇒ ला शत्रूज़ एक इमारत है जो काथूसियन संप्रदाय के ईसाइयों का मठ था। यह रोन नदी के दूसरी ओर स्थित है। आजकल ला शत्रूज़ का उपयोग कला केन्द्र के रूप में होता है।

aavinyo ka subjective question answer 2023

5. ला शत्रूज़ का अंतरंग विवरण अपने शब्दों में प्रस्तुत करते हुए यह स्पष्ट कीजिए कि लेखक ने उसके स्थापत्य को ‘मौन का स्थापत्य’ क्यों कहा है ?

उत्तर ⇒ ला शत्रूज़ में कमरे सुसज्जित और फर्नीचर चौदहवीं सदी जैसा है। रसोईघर, नहानघर के साथ ही संगीत की व्यवस्था आधुनिक है। चैम्बरों के मुख्य द्वार कब्रगाह के चारों ओर बने गलियारों में खुलते हैं पर पीछे आँगन भी हैं और पिछवाड़े से एक दरवाजा भी। इसका स्थापत्य बिल्कुल मौंन है। दिन में औसतन पचासेक सैलानी यह जगह देखने आते हैं। यह बेहद शान्त और नीरख स्थान है इसलिए लेखक ने उसके स्थापत्य को ‘मौन का स्थापत्य’ कहा।

6. लेखक आविन्यों क्या साथ लेकर गए थे और वहाँ कितने दिनों तक रहे ? लेखक की उपलब्धि क्या रही ?

उत्तर ⇒ लेखक आविन्यों जाते समय हिंदी का टाइपराइटर तीन चार पुस्तकें और संगीत के टेप्स ले गए थे और वे 19दिन तक वहाँ रहे। इस दौरान उन्होंने 35 कविताएँ और 27 गद्य रचनाएँ लिखीं।

7. ‘प्रतीक्षा करते हैं पत्थर’ शीर्षक कविता में कवि क्यों और कैसे मानवीकरण करता है ?

उत्तर ⇒ ‘प्रतिक्षा करते हैं पत्थर’ शीर्षक कविता में कवि पत्थर का धैर्यवान और अटल मानव के रूप में मानवीकरण करता है। यह पत्थर मेघ, धूप, अंधेरे और नीरवता में भी पूरे धैर्य के साथ प्रतीक्षा कर रहे हैं। कवि ने पत्थर का मानवीकरण इसलिए किया क्योंकि उसमें मनुष्य की तरह ही कुछ विशेषताएँ हैं।

8. आविन्यों के प्रति लेखक कैसे अपना सम्मान प्रदर्शित करते है ?

उत्तर ⇒ आविन्यों के प्रति अपना सम्मान प्रदर्शित करते हुए लेखक कहता है- “हर जगह हम कुछ पाते, बहुत सा गवाते हैं। ला शत्रूज़ में जो पाया उसके लिए गहरी कृतज्ञता मन में है और जो गँवाया उसकी गहरी पीड़ा भी।

कक्षा 10 आविन्यों का सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर 2023

9. मनुष्य जीवन से पत्थर की क्या समानता और विषमता है ?

उत्तर ⇒ मनुष्य जीवन से पत्थर की समानता और विषमता दोनों हैं। समानता यह है कि मनुष्य और पत्थर दोनों धैर्यवान होते हैं। दोनों ही प्रकृति का हिस्सा हैं और हर रोज़ संघर्ष भी करते हैं। विषमता यह है कि मनुष्य सर झुकाता है लेकिन पत्थर नहीं। मनुष्य बोलता है शब्दों का निर्माण करता है लेकिन पत्थर पूर्णतः मौंन रहता है।

10. इस कविता से आप क्या सीखते हैं ?

उत्तर ⇒ इस कविता से हम सीखते हैं कि हमें पत्थर की तरह धैर्यवान होना चाहिये। प्रत्येक बाधा और दुख को सहकर प्रतीक्षा करनी चाहिये। दुख कितना भी गहरा हो, अंधकार कितना भी गहन हो फिर भी हमें धैर्य रखना चाहिये।

11. नदी के तट पर बैठे हुए लेखक को क्या अनुभव होता है ?

उत्तर ⇒ नदी के तट पर बैठे हुए लेखक को अनुभव हुआ कि नदी तट पर बैठना भी नदी के साथ बहना है। नदी के पास होना नदी होना है।

12. नदी तट पर लेखक को किसकी याद आती है और क्यों ?

उत्तर ⇒ नदी तट पर लेखक को विनोद कुमार शुक्ल की कविता ‘नदी चेहरा लोगों की यादआती है। इस कविता की याद लेखक को इसलिए आती है कि इसमें बताया गया कि नदी के पास जाना नदी हो जाना है।

कक्षा 10 वी हिंदी आविन्यों सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर 2023

13. नदी और कविता में लेखक क्या समानता पाता है ?

उत्तर ⇒ नदी और कविता में लेखक समानता पाता है। नदी और कविता दोनों सदियों से हमारे साथ हैं। नदी में न जाने कहाँ कहाँ से जल आकर मिलते हैं कभी जल खत्म नहीं होता है। इसी तरह कविता में शब्द कम नहीं पड़ते और न जाने कहाँ से कैसी-कैसी बिम्बमालाएँ, शब्द भंगिमाएँ, जीवन छवियों और प्रतीतियाँ आकर मिलती हैं। कविता और नदी दोनों का प्रवाहमयी होना एक दूसरे को समान बनाता है।

14. किसके पास तटस्थ रह पाना संभव नहीं हो पाता और क्यों ?

उत्तर ⇒ नदी और कविता दोनों के पास तटस्थ रह पाना संभव नहा हो पाता है। दोनों की अभिभूति से हम बच नहीं सकते। जैसे हमारे चेहरे पर नदी की आभा आती है, वैसे ही हमारे चेहरे पर कविता की चमक। निरंतर दोनों ही हमारी नश्वरता का अनंत से अभिषेक करती हैं।

Class 10th Hindi Subjective Question 2023

Hindi Subjective Question
S.N गोधूलि भाग 2 ( गद्यखंड )
1. श्रम विभाजन और जाति प्रथा
2. विष के दाँत
3. भारत से हम क्या सीखें
4. नाखून क्यों बढ़ते हैं
5. नागरी लिपि
6. बहादुर
7. परंपरा का मूल्यांकन
8. जित-जित मैं निरखत हूँ
9. आवियों
10. मछली
11. नौबतखाने में इबादत
12. शिक्षा और संस्कृति
Hindi Subjective Question
S.N गोधूलि भाग 2 ( काव्यखंड )
1. राम बिनु बिरथे जगि जनमा
2. प्रेम-अयनि श्री राधिका
3. अति सूधो सनेह को मारग है
4. स्वदेशी
5. भारतमाता
6. जनतंत्र का जन्म
7. हिरोशिमा
8. एक वृक्ष की हत्या
9. हमारी नींद
10. अक्षर-ज्ञान
11. लौटकर आऊंगा फिर
12.  मेरे बिना तुम प्रभु

Leave a Reply

Your email address will not be published.